साहित्य का आधार जीवन है | इसी नीव पर साहित्य की दीवार कड़ी है |

निर्देश- निन्मलिखित को ध्यान से पढ़िए और इसके आधार पर प्रश्न-संख्या 1 से 2 तक उत्तर दीजिए |

गद्धांश- साहित्य का आधार जीवन है | इसी नीव पर साहित्य की दीवार कड़ी है | उस पर अटारियाँ-मीनार-गुम्बद बनते है |उन्हें देखने को भी जी नहीं चाहेगा | परमात्मा की सृष्टि है इसलिए सुबोध, सुगम तथा मर्यादाओं से परिमित है | जीवन, परमात्मा को अपनेकार्यो का जवाबदेह है या नहीं? हमें नहीं मालूम लेकिन साहित्य तो मनुष्य के सामने जवाबदेह है | इसके लिए कानून है, जिनसे वह इधर-उधर नहीं हो सकता | जीवन उद्देश्य ही आनंद है | मनुष्य जीवन पर्यन्त आनंद की खोज में लगा रहता है | किसी को वह रत्न द्रव्य में मिलता है; किसी को म्हारे-पुरे परिवार में; किसी को लंबे-चौड़े भवन में तथा किसी को एश्वर्य में किन्तु साहित्य का आनंद इस आनंद से ऊँचा है; उसका आधार सुन्दर और सत्य है | वास्तव में, सच्चा आनंद सुन्दर और सत्य से मिलता है | उसी आनंद को प्रकट करना, वहीं आनंद को प्रकट करना, वहीं आनंद उत्पन्न करना साहित्य का उद्देश्य है | ऐश्वर्य अथवा भोग के आनंद में ग्लानि छुपी होती है; पश्चाताप भी होता है | दूसरी और सुन्दर से जो आनंद प्राप्त है, वह अखंड है; अमर है |

  1. सबसे ऊँचा साहित्य आनंद वह होता है, जो-
    (a) भौतिक साधनों से प्राप्त होता है
    (b) सत्य से प्राप्त होता है
    (c) साहित्य से प्राप्त होता है
    (d) परमात्मा से प्राप्त होता है
  2. सच्चा आनंद किस्से मिलता है-
    (a) साहित्य से
    (b) परमात्मा से
    (c) सुन्दर और सत्य से
    (d) भोग और एश्वर्य से
Anurag Mishra Professor Asked on 1st March 2016 in Hindi.
Add Comment
1 Answer(s)
  1. (c) साहित्य से प्राप्त होता है
  2. (c) सुंदर और सत्य से
Anurag Mishra Professor Answered on 2nd March 2016.
Add Comment

Your Answer

By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.